घर

यह कैसी रीत है चली आयी,
जिसने बचपन से ही मुझे मेरे पराए होने की वजह बताई,
घर-घर खेलने की उम्र से ही मुझे पिया घर जाने की राह दिखाई।

ना जाने किस देश की बेटी हूं,
कोई कहे मायके का बोझ ,
कोई कहे सासरे की लाज हूं।

तुझे तो पराए घर जाना है,
तुझे उस कुल का नाम बढ़ाना है,
जब वो घर ही पराया है तो वह मेरा घर कैसे बाबा?

मां के गर्भ से धरती की गोद तक,
मुझे यू बिन घर मुसाफ़िर बता दिया,
कोई कहे मायके की बोझ,
कोई सासरे की लाज कह, मुझे परे बिठा दिया।

कदमों में जब तक उल्टी चप्पल डाली,
तब तक बाबुल की थी प्यारी,
मांग सिंदूर चढ़ा तो आई सासू की बारी।

इस घर, उस घर,
ना जाने किस घर के बोझ की है मारी,
कोई अपनाए ही नहीं, जैसे है छू-अछूत की बीमारी।


Hello, everyone! If you liked this Poem, do check out the related posts. Comment and like if you would like to read more similar works from the author. And don’t forget to share this on your social media channels.


Hey! My name is Garima Parashar. I have completed my graduation in law and now headed as an Advocate in Delhi Bar Council. I love singing, listening music in different languages. I love to read people more than books. I write when my thoughts needs to be vocalised.

Email- parashargarima123@gmail.com

Instagram- https://instagram.com/parashargarima25/


Free Adult Colouring Book

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: