हिज्र

तेरे हिज्र में कुछ ऐसे हलकान हो गया हूँ मैं,
ये तुझमे उलझकर कितना परेशान हो गया हूँ मैं…
पहले तो मेरी सिगरेट को तू मुझसे छीन लेती थी,
ये देख आज पूरी सिगरेट की दुकान हो गया हूँ मैं।।

लोग मुझसे अब इश्क़ का फ़लसफ़ा पूछते है,
मानो तवायफ़ के कोठे की शान हो गया हूँ मैं…
हर रहगुज़र अब मेरा हाल-ए-दिल समझ जाता है,
ये हिज्र-ए-मोहब्बत में कितना आसान हो गया हूँ मैं।।

कभी तेरी खुशबू का ज़िक्र सारी फ़ज़ा करती थी,
अब तेरी खुशबू से कितना अनजान हो गया हूँ मैं…
अपने कमरे में एक सुकून को ढूंढता हूँ आजकल,
ये खुद के घर में कैसा मेहमान हो गया हूँ मैं।।

(हिज्र- seperation, हलकान- worried)


Hello, everyone! If you liked this Poem, do check out the related posts. Comment and like if you would like to read more similar works from the author. And don’t forget to share this on your social media channels.


Hi! I am Saurav.

I am a law student currently pursuing B.A. L.LB. from National University of Study and Research in Law, Ranchi. I am fond of writing poetries in my free time..my interest primarily lies in “Romantic” genre.

Email- singhsaurav1770@kyoshi5

Instagram- https://www.instagram.com/saurav_singh1771


Free Adult Colouring Book

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s


%d bloggers like this: